Chandragupta Vikramaditya Hindi Icse Character Sketch Essay


As per readers’ requests, here are a few YouTube links to notes for Hindi:

 

Audio-visual Question and Answer Revision:

Gadya Sankalan: Usaki Maa

Chandragupta Vikramaditya Part II

Ekanki Suman: Mel Milap

 

Hindi Grammar:

Nirdheshanusar Vakya Banaye

 

Here’s a link to their YouTube channel. They also have a couple audio-visual videos for Geography: Water Resources, Civics: The Supreme Court, and History: Mahatma Gandhi and the National Movement. 

 

Do check them out! 🙂

 

Like this:

LikeLoading...

Related

Posted in: Hindi, Uncategorized | Tagged: Board Exam, Chandragupta Vikramaditya, civics, Class 10, Class X, Educational blog, Educational Site, Ekanki Suman, Free educational platform, Free exam tips, Gadya Sankalan, geography, grammar, Hindi, Hindi Grammar, history, How to Study, ICSE, icse exam help, icse guide, icse notes, icse study material, Indian educational blogger, Language, Mahatma Gandhi, Mel Milap, National Movement, Nirdheshanusar Vakya Banaye, question and answer, Second Language, Solved Question, solved questions, Supreme Court, Usaki Ma, Usaki Maa, Useful educational websites, Uski Ma, Uski Maa, Water Resources, YouTube

विद्वान विक्रमादित्य का इतिहास / Raja Vikramaditya History In Hindi

विक्रमादित्य प्राचीन भारत के महान शासक थे. वे एक आदर्श राजा के नाम से जाने जाते थे, इतिहास में वे अपनी ताकत, हिम्मत और विद्वान नीतियों के लिये जाने जाते थे. विक्रमादित्य के महानता और उनके पराक्रम की 150 से भी ज्यादा कहानिया है, जग प्रसिद्ध बैताल पचीसी और सिंघासन बत्तीसी भी शामिल है. बहोत से इतिहासकारों ने विक्रमादित्य को उनकी राजधानी उज्जैन का महान शासक भी बताया.

महान शासक विक्रमादित्य / Raja Vikramaditya के नाम का अर्थ “वीरता का सूर्य” होता है. (जिसमे विक्रम मतलब “वीरता और आदित्य मतलब “सूर्य”). इसके साथ ही वे विक्रम, बिक्रमजीत और विक्रमरका के नाम से भी जाने जाते थे. कुछ महानुभावो ने विक्रमादित्य को मलेच्चा आक्रमंकारियो से भारत का परिमोचन कराने वाला भी बताया. इसके साथ ही इस महान शासक को शाकरी की उपाधि भी दी गयी थी.

प्रसिद्ध परंपरा के अनुसार, विक्रमादित्य /Raja Vikramaditya ने ही विक्रम संवत काल की शुरुवात 57 BCE में शकास को पराजित करने के बाद ही की थी. उनकी महान गथाओ और प्रसिद्धि और पराक्रम को देखते हुए ही उनके काल को “विक्रम संवत” का नाम दिया गया. जबकि कुछ विद्वानों का ऐसा मानना था की विक्रमादित्य एक पौराणिक चरित्र है, उनका ऐसा मानना है की विक्रमादित्य के सभी पराक्रम केवल एक कल्पना ही है. ”विक्रमादित्य” का शीर्षक भारत के बहोत से शासको ने अपनाया है और ये संभव हो सकता है की उन्होंने भारत के अलग-अलग क्षेत्रो में अपनी ख्याति फैलाई हो और उन्हें विक्रमादित्य का नाम दे दिया गया हो, इसमें विशेष रूप से चंद्रगुप्त द्वितीय थे.

विक्रमादित्य की गाथा बहोत से राजाओ से जुडी हुई ही जिसमे मुख्य रूप से जैन शामिल है. लेकिन कुछ दंतकथाओ के अनुसार उन्हें शालिवाहना से हार का सामना करना पड़ा था. विक्रमादित्य ईसा पूर्व पहली सदी के है. कथा सरितसागर के अनुसार वे उज्जैन के परमार वंश के राजा के पुत्र थे. हालाँकि इसका उद्देश बाद में 12 वी शताब्दियों में किया गया था.

विक्रमादित्य की प्रारंभिक ख्याति – Raja Vikramaditya In Hindi :

विक्रमादित्य / Raja Vikramaditya का गुप्त वंश (240-550 CE) के पहले काफी उल्लेख किया जाता है. ऐसा माना जाता है की गुप्त वंश आने के पहले विक्रमादित्य ने ही भारत पर राज किया था. इसके अलावा अन्य स्त्रोतों के अनुसार विक्रमादित्य को दिल्ली के तुअर राजवंश का पूर्वज माना जाता था.

महान विक्रमादित्य के पराक्रमो को प्राचीन काल में ब्रिहत्कथा कर गुनाध्या में बताया गया है. विक्रमादित्य के अवशेषों को ईसा पूर्व पहली सदी और तीसरी सदी के बीच देखा जा सकता है. उस काल में उपर्युक्त पिसाची भाषा आज हमें दिखाई नही देती. आज भी विक्रमादित्य के इतिहास को लेकर बहोत सी बाते की जाती है. उनके अस्तित्व को काल्पनिक माना जाता है. क्योकि उनके शासनकाल में उनके काम और अस्तित्व के कोई सबूत हमें नही दिखाई देते. विक्रमादित्य के अस्तित्व को गुप्त वंशज के बाद का समय माना जाता है.

विक्रमादित्य से सम्बंधित काफी कथा-श्रुंखलाये है, जिसमे बेताल बत्तीसी काफी विख्यात है. इसके हमें संस्कृत और क्षेत्रीय भाषाओ में कई रूपांतरण मिलते है. इन कहानियो के रूपांतरण हमें कथा-सरितसागर में मिलते है. इतिहासकारों के अनुसार विक्रमादित्य के पास “नवरत्न” कहलाने वाले नौ विद्वान थे.

विक्रम संवत में विक्रमादित्य के पराक्रमो के आस-पास के शासक भी चीर परिचित थे. वे राजा विक्रमादित्य से काफी प्रभावित हुए थे और कइयो ने तो उन्हें अपना आदर्श भी मान लिया था. विक्रमादित्य के शासनकाल को भारतीय इतिहास के स्वर्णिम युगों में याद किया जाता है…

जरुर पढ़े :– चन्द्रगुप्त मौर्य का इतिहास

Please Note :- अगर आपके पास Raja Vikramaditya History In Hindiमैं और Information हैं, या दी गयी जानकारी मैं कुछ गलत लगे तो तुरंत हमें कमेंट मैं लिखे हम इस अपडेट करते रहेंगे. धन्यवाद
*अगर आपको हमारी Information About Raja Vikramaditya History In Hindi अच्छी लगे तो जरुर हमें Facebook पे Like और Share कीजिये.
Note:- E-MAIL Subscription करे और पायें All Information & Biography Of Raja Vikramaditya In Hindi आपके ईमेल पर.

Gyani Pandit

GyaniPandit.com Best Hindi Website For Motivational And Educational Article... Here You Can Find Hindi Quotes, Suvichar, Biography, History, Inspiring Entrepreneurs Stories, Hindi Speech, Personality Development Article And More Useful Content In Hindi.

Categories: 1

0 Replies to “Chandragupta Vikramaditya Hindi Icse Character Sketch Essay”

Leave a comment

L'indirizzo email non verrà pubblicato. I campi obbligatori sono contrassegnati *